हरितवटी टेबलेट

उपयोग– यह वटी वायु नाशक है शरीर के किसी भी अंग में दर्द, सूजन, सुन्नपन, चीटींयां सी चलना, नसों का अवरूद्ध ठसवबा होना जैसे गठियाबाय

(।तजीतपजपे) घुटनों का दर्द, गर्दन दर्द (ब्मतअपबंस) कंघों का दर्द, ऐड़ी का दर्द या आंतरिक व बाहरी सूजन व अंगों का जाम होना, में रामबाण औषधि है। जो रूग्ण को हमेशा के लिए शान्त करती है।

सेवन विधि– प्रातःकाल एक वटी खालीपेट गुनगुनें जल से लेकर 40 मिनट बाद ही भोजन का सेवन करें, वयस्कों के लिए 24 घंटे में केवल एकबार।

परहेज– दिन में दूध का सेवन न करें, ठण्डी व खट्टी चीजां का सेवन न करें जैसे दही, मट्ठा, चावल, कढ़ी व तली भुनी चीजें से बचें।

नोट– 2 वर्ष तक के पुरानें दर्द के लिए मात्र 40 दिन करें, 2 से 8 वर्ष तक के पुरानें दर्द के लिए मात्र 90 दिन तक सेवन करें। 8 वर्ष से ऊपर पुरानें दर्द में मात्र 180 दिनों तक सेवन करें।

पीपल, ब्राह्मी,

रासना, अश्वगंधा, ज्वारा

विशेष– यह वटी पीपल जैसे महान वृक्ष का समावेश व कई दिव्य औषधियों के सघांत रस के तदोपरान्त घन के रूप में पुट्ठो द्वारा परिवर्तित की गयी है। यह औषधि यज्ञों पुट्ठो पंचांगों पर आधारित है।



BUY NOW